पैर में सूजन दर्द का इलाज, कारण, उपचार और घरेलू दवा

पैर में सूजन का इलाज करने के लिए कई आसान घरेलू उपचार हैं जिनके इस्तेमाल से कुछ ही मिनटों में आप पैरों के दर्द और सूजन से निजात पा सकते हैं| दिनभर की भागदौड़ के बाद पैरों में दर्द या सूजन हो जाना एक आम बात है इसकी वजह से ज्यादा चिंतित होने की जरुरत नहीं है|

Pairo Me Sujan Ka Ilaj and Karan

पैर में सूजन व दर्द के कारण आखिर होते क्या हैं ?

पैरों में सूजन तो किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकता है| आमतौर पर बुजुर्ग लोगों को यह परेशानी ज्यादा होती है क्यूंकि बुढ़ापे में पैरों की हड्डियां कमजोर हो जाती हैं| परन्तु कई बार ज्यादा चलने या दौड़ने के कारण युवाओं के भी पैरों में दर्द हो सकता है| पैर में दर्द और सूजन के कई कारण होते हैं –

पैर में सूजन के कारण –
1. सर्दियों में नंगे पैर घूमना
2. प्रेगनेंसी की वजह से भी सूजन हो सकती है
3. किसी दवाई का रिएक्शन
4. कोई गुम चोट लग जाना
5. वजन ज्यादा बढ़ना
6. बहुत अधिक यात्रा करना

पैर में दर्द के कारण –
1. मासंपेशियों में खिंचाव
2. कैल्शियम की कमी
3. बुढ़ापे में हड्डियां कमजोर होना
4. गलत तरीके से सोना
5. ज्यादा एक्सरसाइज करना
6. घटिया क्वालिटी के जूते पहनना
7. मांसपेशियों में सिकुड़न आना
8. विटामिन D की कमी से भी दर्द हो सकता है
9. डायबिटीज की वजह से भी दर्द होता है
10. रक्त का प्रवाह सही ना होना
11. अत्यधिक तनाव में रहना
12. बच्चों का ज्यादा खेलना
13. बहुत अधिक वजन होना
14. बहुत अधिक यात्रा करना
15. कोलस्ट्रोल का बढ़ना

इन सभी कारणों से किसी भी व्यक्ति के पैरों में सूजन और दर्द हो सकता है| कभी-कभी हल्का दर्द हो तो ज्यादा परेशानी नहीं होती लेकिन अगर यह दर्द लगातार कई दिन तक रहे तो समस्या बड़ी हो जाती है|

कुछ लोगों के पैरों में दर्द जब बहुत अधिक हो जाता है तो वह पेन किलर वाली दवाइयां खाने लगते हैं जिससे तुरंत आराम तो मिल जाता है लेकिन इनका बहुत अधिक साइड इफ़ेक्ट भी होता है इसीलिए जब भी पैरों में दर्द हो तो आपको घरेलू नुस्खों का इस्तेमाल करना चाहिए| घरेलू इलाज सस्ता भी होता है और इसके कोई साइड इफ़ेक्ट भी नहीं होते हैं|

पैर के सूजन का अचूक इलाज

पैरों में जब भी दर्द उठे या सूजन आये तो बिना देरी किये इन घरेलू उपचारों को अपनाना फिर आप देखेंगे कि कुछ समय में ही आपका दर्द ऐसे छूमंतर हो जायेगा जैसे पहले कभी था ही नहीं…तो चलिए शुरू करते हैं पैरों के रामबाण इलाज के तरीके –

पैरों में सूजन में असरदार है अदरक का तेल

अदरक दर्द निवारक दवाइयों में सबसे प्रमुख है| अदरक की सहायता से पैरों में दर्द और इसके साथ अगर पैरों में सूजन है तो उसे भी कम किया जा सकता है| पैरों में दर्द है तो आपको अदरक का तेल का इस्तेमाल करना होगा|

अदरक का तेल लेकर अपने पैरों पर मसाज करें| कम से कम आधा घंटा रोजाना मसाज बेहद जरुरी है और अगर दर्द बहुत ज्यादा है तो दिन में दो बार मसाज करें|

इसके अलावा, अदरक की चाय बनाकर इसके सेवन करने से भी शरीर में दर्द दूर होते हैं| जब तक दर्द दूर ना हो जाये तब तक रोजाना मसाज करें और सुबह शाम अदरक वाली चाय भी पियें|

नीम्बू करता है सूजन कम

जिन लोगों के पैरों में सूजन है या दर्द है उन लोगों को नींबू के रस का इस्तेमाल करना चाहिए| नींबू हर घर में मौजूद रहने वाली चीज़ है आपको बस इतना करना है कि एक बर्तन में थोड़ा पानी लें और इस पानी को गुनगुना कर लें|

अब इस पानी में 2 चम्मच नींबू का रस मिला दें| इसके बाद इस रस को पी लें| अगर आपके पास शुद्ध शहद है तो इसमें थोड़ा शहद भी मिला लीजिये और इसका दिन में दो बार सेवन जरूर करिये|

ठन्डे पानी में रखें पाँव

एक बाल्टी या किसी खुले मुंह वाले बर्तन में ठंडा पानी भर लें| अब अपने पैरों को साफ़ करके इन बाल्टी में पैर डाल लें और आराम से कुर्सी पर बैठ जायें| कुछ देर तक पैर ठंडे पानी में ही रहने दें और आप कुर्सी पर बैठे रहें|

इससे पैरों में रक्त का संचरण ठीक हो जाता है और पैरों में दर्द से तुरंत आराम मिलता है| इससे आसान और सस्ता तरीका दूसरा कोई हो ही नहीं सकता परन्तु अगर फिर भी आराम ना मिले तो अगला नुस्खा आजमाएं|

गर्म पानी से पैरों की सिकाई

पानी गर्म करके किसी बोतल में भर लें| आज कल मार्किट में सिकाई करने के लिए रबर की ख़ास बोतलें आती हैं जो सिकाई करने के लिए ही बनायी गयी होती हैं, आप उस बोतल का इस्तेमाल कर सकते हैं|

पानी उतना ही गर्म करें जितना आप सह सकें| अब बोतल में पानी भरकर इससे पैरों की सिकाई करें| कोई जल्दबाजी ना करें, आराम से कम से कम 20 -30 मिनट तक सिकाई करें| इससे पैरों कर दर्द और सूजन तुरंत कम होने लगेगी|

नीम के पत्तों करते हैं दर्द दूर

नीम के पत्ते हर जगह आसानी से मिल जाते हैं| एक बर्तन में पानी गर्म करें और इसमें नीम के पत्ते डाल दें और तब तक उबालते रहें जब तक नीम के पत्ते अपना रंग ना छोड़ने लगें अर्थात पानी का रंग हरा हो जाना चाहिए|

अब इस पानी से पत्तियां निकालकर इसमें थोड़ी फिटकरी मिला लें और इस पानी में कुछ देर तक अपने पैरों को डालकर रखें| नीम के अंदर बैक्टीरिया से लड़ने की शक्ति होती है, और यह दर्द निवारक का कार्य भी करता है|

नाश्ते में खायें केला

केले में भरपूर मात्रा में पोटेशियम होता है| अक्सर शरीर में पोटेशियम की कमी से भी पैरों में दर्द होने लगता है इसलिए रोजाना केले का सेवन करने से फायदा होता है| केले को रोजाना अपने नाश्ते में शामिल करें|

इससे शरीर को एनर्जी भी मिलेगी और यह पैरों की अकड़न को भी दूर करेगा|

दूध से बनी चीज़ों का सेवन करें

कैल्शियम की कमी से हड्डियां कमजोर हो जाती हैं| शरीर में कैल्शियम की कमी को पूरा करने का सबसे बेहतर तरीका है दूध से बनी चीज़ों का सेवन करना क्यूंकि दूध में सबसे ज्यादा कैल्शियम होता है|

नाश्ते में दूध जरूर पियें| इसके अलावा पनीर, दही आदि का सेवन भी बढ़ा देना चाहिए ताकि शरीर को भरपूर कैल्शियम मिल सके और हड्डियां मजबूत बनें|

पवनमुक्तासन योगा करें

पवनमुक्तासन ऐसा योगा है जो पैरों में दर्द व सूजन के साथ कमर के दर्द को भी दूर करता है| यह लाखों लोगों द्वारा आजमाया गया योगा है और इसके परिणाम भी बहुत तेजी से देखने को मिलते हैं|

15 से 20 मिनट पवनमुक्तासन को करें उसके बाद आप खुद देखेंने कि पैरों का दर्द तुरंत गायब सा हो गया है| इस आसान को करने का तरीका हमने पहले भी एक लेख में बताया है|

पवनमुक्तासन करने की विधि

स्ट्रेचिंग करें

स्ट्रेचिंग का मतलब होता है शरीर के अंगों को थोड़ा खींचना ताकि जो कस बल हुआ हो या कोई नस दब गयी हो वो ठीक हो जाये| जानवर स्ट्रेचिंग के मामले में सबसे आगे होते हैं| आपने देखा होगा कि जब कोई जानवर जैसे कुत्ता सुबह सोकर उठता है तो वह भरपूर अंगड़ाई लेता है अपने हाथ पैरों को खींचता है ताकि शरीर की अकड़न दूर हो जाये|

वैसे ही जब हम सोते हैं तो सोने की गलत पोज़िशन की वजह से कई बार कोई नस या मांसपेशी दब सकती है और उसकी वजह से दर्द होने लगता है तो ऐसे जब भी सोकर उठें तो भरपूर स्ट्रेचिंग करें ताकि आप शरीर के सारे अंग रिलेक्स हो जायें|

पैर दबाने से मिलता है आराम

पैरों में जब रक्त का संचार कम होने लगता है तो दर्द बहुत बढ़ जाता है| इसका सबसे बढ़िया इलाज है पैर दबाना, आपने घरों में अक्सर अपने बड़े बुजुर्गों को पैर दबवाते देखा भी होगा या आपने खुद उनके पैर दबाये भी होंगे|

पैरों के दबाने से नसों पर दबाब पड़ता है और रक्त का संचरण बढ़ जाता है जिसकी वजह से तुरंत आराम मिलने लगता है| इसलिए जब भी पैरों में दर्द हो तो पैर दबवा लें|

एक्यूप्रेशर वाली चप्पल पहनें

यह जरुरी नहीं कि पैरों में दर्द हड्डियां या मांसपेशियां कमजोर होने की वजह से ही हो बल्कि कई बार बेकार क्वालिटी के जूते और चप्पल पहनने से भी पैरों में दर्द होने लगता है| इसलिए हमेशा अपने पैरों के हिसाब से आरामदायक ही चप्पल और जूते पहनें|

मार्किट में आजकल एक्यूप्रेशर वाली चप्पलें भी मिलती हैं| इन चप्पलों की खासियत यह होती है कि इनको पहनने से पैरों में रक्त का संचरण हमेशा सुगम बना रहता है इसकी वजह से दर्द होने की संभावना बिल्कुल कम हो जाती है|

थोड़ा टहलना भी है जरुरी

सुबह धीमे धीमे जॉगिंग करना आपके पैरों के लिए वरदान की तरह है| इससे पैरों का अच्छा व्यायाम हो जाता है और जो लोग दिन भर बैठ कर कार्य करते हैं उनको तो सुबह आधा घंटा जरूर टहलना चाहिए इससे पैरों में होने वाले दर्द की शिकायत कम हो जाती है|

इसके साथ ही सुबह का घूमना शरीर में ऑक्सीजन के प्रवाह को सुगम बनाता है जिससे ब्लडप्रेशर भी कंट्रोल में रहता है| तो अगर पैरों में दर्द है तो आधा घंटा सुबह टहलने के लिए जरूर निकालें|

खूब पियें पानी

हमारे शरीर के 70 प्रतिशत हिस्से में सिर्फ पानी ही भरा हुआ है| गर्मियों में जब शरीर से पसीना निकलता है और हम भरपूर पानी का सेवन नहीं करते तो शरीर में पानी की कमी हो जाती है| जिसके फलस्वरूप शरीर के कई हिस्सों में दर्द होना लाजमी है|

पैरों में दर्द लगातार लम्बे समय से चला आ रहा हो तो सबसे पहले भरपूर पानी पीना शुरू कर दीजिये| एक स्वस्थ व्यक्ति को रोजाना 8 से 10 गिलास पानी जरूर पीना चाहिए

तो मित्रों इस लेख में हमने आपको पैरों के दर्द और सूजन का इलाज, कारण और उपचार के बारे में विस्तार से बताया है तो इस जानकारी को आप अपने सोशल मीडिया पर भी शेयर करें ताकि यह लेख जरूरतमंद लोगों तक पहुँच सके और आपके कुछ सवाल हैं तो आप हमसे कमेन्ट करके भी पूछ सकते हैं धन्यवाद!!

ये लेख भी आपके काम के हैं –
चेहरे पर दाने के उपाय
Lower Back Pain Treatment in Hindi
कमर दर्द के लिए योगासन
कमर दर्द की दवा आपकी रसोई में है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

8 Comments

  1. Ashish agarwal
    • nirogihaiham
  2. VIRENDRA MESHRAM
  3. VIRENDRA MESHRAM
    • nirogihaiham
  4. shivam
  5. देवीप्रसाद pandey
  6. राजेन्द्र चौबीसा